मध्यप्रदेश में 4 दिन बदला रहेगा मौसम, कई जिलों में बारिश का ऑरेंज अलर्ट
1 min read

मध्यप्रदेश में 4 दिन बदला रहेगा मौसम, कई जिलों में बारिश का ऑरेंज अलर्ट

भोपाल

मध्यप्रदेश में पिछले 4 दिन से आंधी-बारिश और ओले गिर रहे हैं। शुक्रवार को मंदसौर में पूर्व CM शिवराज सिंह चौहान की सभा के पंडाल का टेंट उड़ गया। वहीं, उज्जैन, शाजापुर, रायसेन, सीहोर जिलों में तेज बारिश हुई। भोपाल, इंदौर, रतलाम में बादल छाए रहे। ऐसा ही मौसम शनिवार को भी बना रहेगा। इसके चलते छिंदवाड़ा, बैतूल, नर्मदापुरम समेत 10 जिलों में ऑरेंज अलर्ट है।

वहीं आंधी-बारिश के चलते शुक्रवार को मंदसौर में पूर्व CM शिवराज सिंह चौहान की सभा के पंडाल का टेंट उड़ गया। बारिश के चलते पूर्व सीएम चौहान ने छाते में ही भाषण किया।

इसके साथ ही सीहोर जिले में आंधी इतनी तेज थी कि पेड़ उखड़ गए, तो वहीं बिजली केबल भी टूट गई। रायसेन और शाजापुर में भी तेज बारिश हुई, तो वहीं भोपाल के कुछ इलाकों में हल्की बौंछारें गिरीं।

बारिश के साथ-साथ तेज गर्मी का असर

आपको बता दें कि प्रदेश में बारिश के साथ तेज गर्मी का असर भी है। टेम्प्रेचर की बात करें तो गुना में दिन का टेम्प्रेचर 44.4 डिग्री सेल्सियस पर पहुंचा। गुना में सीजन का सबसे गर्म दिन दर्ज किया गया। वहीं शिवपुरी में पारा 43 डिग्री, रतलाम में 42 डिग्री, टीकमगढ़ में 42.5 डिग्री और सागर में 42.8 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचा।

प्रेदश के बड़े शहरों की बात करें तो भोपाल में 41.5 डिग्री, इंदौर में 40.6 डिग्री, ग्वालियर में 40.5 डिग्री, जबलपुर में 39.4 डिग्री और उज्जैन में तापमान 41.5 डिग्री दर्ज किया गया।

इसके साथ ही रायसेन, खजुराहो, खंडवा, सीधी, धार, नौगांव, दमोह, खरगोन और शाजापुर में पारा 40 से 41.6 डिग्री के बीच रहा।

इसलिए बदला मौसम

मौसम वैज्ञानिक के मुताबिक, तीन वेस्टर्न डिस्टरबेंस (पश्चिमी विक्षोभ) एक्टिव हैं, जिनकी वजह से साइक्लोनिक सर्कुलेशन सिस्टम और हवा का रुख (MP Weather Today) बदला हुआ है। इसलिए ऐसा मौसम है।

आपको बता दें कि प्रदेश के कुछ जिलों में बारिश का दौर चल रहा है। ये मौसम 14 मई तक बदला रहेगा।

इसके साथ ही प्रदेश में आकाशीय बिजली गिरने का भी अनुमान है, इसके लिए बादलों की गरज-चमक के दौरान लोगों को सुरक्षित जगह पर रहने की सलाह दी गई है।

प्रदेश में अगले 4 दिन कैसा रहेगा मौसम?

11 मई: पूरे प्रदेश में मौसम बदला रहेगा। नर्मदापुरम, छिंदवाड़ा, राजगढ़, बैतूल, पांढुर्णा, मंडला, सिवनी, बालाघाट, दमोह और कटनी में ऑरेंज अलर्ट है। भोपाल, सीहोर में भी बादल-आंधी का दौर रहेगा। बाकी जिलों में भी बादल छाए रहेंगे। कहीं-कहीं बारिश भी हो सकती है।

12 मई: छिंदवाड़ा, पांढुर्णा, सिवनी, राजगढ़, नर्मदापुरम, बैतूल, मंडला और बालाघाट में बारिश का अलर्ट है। आलीराजपुर, हरदा, देवास, शाजापुर, भोपाल, झाबुआ, बड़वानी, धार, बुरहानपुर, खंडवा, नरसिंहपुर, जबलपुर में भी आंधी, बारिश का दौर रहेगा।

रायसेन, विदिशा, गुना, सागर, दमोह, रतलाम, उज्जैन, इंदौर, खरगोन, सीहोर, टीकमगढ़, निवाड़ी, छतरपुर, सीधी, सिंगरौली, शहडोल, अनूपपुर, पन्ना, सतना, रीवा, मऊगंज, डिंडोरी, उमरिया, कटनी में भी मौसम बदला रहेगा।

13 मई: प्रदेश के सभी जिलों में मौसम बदला रहेगा। कहीं बादल छाएं रहेंगे तो कहीं आंधी भी चल सकती है।

14 मई: कुछ जिलों में मौसम बदला रहेगा। रतलाम, झाबुआ, नीमच, मंदसौर, धार, इंदौर, देवास, बालाघाट, अनूपपुर, दमोह, पन्ना, सतना, सीहोर, पांढुर्णा, छिंदवाड़ा, सिवनी, मंडला, मैहर, रीवा, मऊगंज और अनूपपुर में हल्की बारिश हो सकती है।

मौसम विज्ञान केंद्र से मिली जानकारी के मुताबिक, वर्तमान में एक पश्चिमी विक्षोभ ईरान के आसपास हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात के रूप में बना हुआ है। इसके साथ एक द्रोणिका भी संबद्ध है। राजस्थान पर हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है। इस चक्रवात से लेकर मध्य प्रदेश से होकर असम तक एक द्रोणिका बनी हुई है। मध्य प्रदेश के मध्य क्षेत्र में हवा के ऊपरी भाग में भी एक चक्रवात मौजूद है। इसके अतिरिक्त अरब सागर एवं उससे लगे गुजरात पर भी हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है।

कहीं-कहीं वर्षा होने के साथ ही ओलावृष्टि भी

मौसम विज्ञान केंद्र के पूर्व वरिष्ठ मौसम विज्ञानी अजय शुक्ला ने बताया कि अलग-अलग स्थानों पर बनी इन मौसम प्रणालियों के असर से अरब सागर एवं बंगाल की खाड़ी से नमी आने का सिलसिला बना हुआ है। हवाओं का रुख भी दक्षिणी है। इस वजह से लगभग पूरे प्रदेश में दोपहर के बाद मौसम का मिजाज बदलने लगता है। तेज रफ्तार से हवाएं चलने के साथ गरज-चमक होने लगती है। साथ ही कहीं-कहीं वर्षा होने के साथ ही ओलावृष्टि भी होने लगती है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *